December 6, 2021

Rajasthan: लॉकडाउन की आड़ में कराई जा रही थी नाबालिगों की शादी, जज साहब ने रुकवाई

Indian wedding hands with gold

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राजस्थान के उदयपुर में नाबालिग जोड़े की शादी होने जा रही थी। यह शादी संपन्न होती कि इससे पहले उदयपुर के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश को इसका पता चल गया और वह तुरंत ही मौके पर पहुंच गए। उन्होंने वहां जाकर ना केवल शादी को रुकवा दिया।

 लॉकडाउन की आड़ में रविवार को राजस्थान के उदयपुर में नाबालिग जोड़े की शादी होने जा रही थी। यह शादी संपन्न होती कि इससे पहले उदयपुर के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश को इसका पता चल गया और वह तुरंत ही मौके पर पहुंच गए। उन्होंने वहां जाकर ना केवल शादी को रुकवा दिया, बल्कि शादी संपन्न कराने में सहयोग कर रहे पंडित, हलवाई, फोटोग्राफर तथा घोड़ी वाले तक को नोटिस भी थमा दिया। उदयपुर जिला व सत्र न्यायालय में अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश कुलदीप स्वर्णकार को पता चला कि उदयपुर के सेक्टर नौ में चौदह साल की एक किशोरी की शादी कराई जा रही है। इसकी जानकारी मिलते ही वह विवाह स्थल पर पहुंच गए तथा दुल्हन की आयु को लेकर कागजात मांगे।

इधर, दुल्हन पक्ष के लोगों ने पहले दुल्हन को बालिग बताया, लेकिन जब उपलब्ध दस्तावेज से जांच की तो वह चौदह साल की निकली। जिस पर उन्होंने तत्काल प्रभाव से दुल्हन के माता-पिता और रिश्तेदारों को पाबंद करते हुए शादी समारोह पर रोक लगा दी। इसी बीच, घोड़ी पर बिंदोली निकालते हुए दूल्हा और उसके परिजन वहां पहुंचे। न्यायाधीश कुलदीप को दूल्हे की उम्र को लेकर भी शंका हुई और उसके परिजनों से पूछताछ की तथा दूल्हे की उम्र के दस्तावेज मांगे तो पता चला कि दूल्हा भी नाबालिग है। जिस पर न्यायाधीश ने दूल्हे के परिजनों को पाबंद कर दिया। न्यायाधीश कुलदीप में शादी संपन्न कराने में सहयोग कर रहे पंडित, हलवाई,फोटोग्राफर तथा घोड़ी वाले को भी नोटिस देकर पाबंद किया कि वह किसी भी नाबालिग की शादी कराने में मदद नहीं करेंगे। उल्लेखनीय है कि उदयपुर शहर में नाबालिग जोड़े की शादी के प्रयास का यह पहला मामला पकड़ में आया है। विधिक सेवा प्राधिकरण ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए दोनों पक्षों को पाबंद कर दिया। वहीं, इस मामले की शहर के साथ प्रदेशभर में चर्चा है। 


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •